Follow by Email

Thursday, July 18, 2013

मिड डे मील के नाम पर मिलेगी मौत

छपरा की घटना बेहद दुखद और दिल को झकझोर देने वाली है .आप देश के किसी भी स्कूल में चेक कर लीजिए मिड डे मील के नाम  पर घटिया भोजन मिलेगा ,पूरी योजना बड़े पैमाने पर भ्रष्टाचार की शिकार है ..फिलहाल सरकार बच्चों को मिड डे मील के नाम पर मार रही है ,आगे खाद्य सुरक्षा के नाम पर (GDP का 3 प्रतिशत )मारेगी ...देश के  लोगों को भिखारी समझ रखा है कांग्रेस ने ...देश के लोगों को इस समय बेहतर सार्वजनिक शिक्षा और चिकित्सा की जरुरत है जो इस समय देश में एकदम निम्न दर्जे की है ..बजाय इसके कांग्रेस लोगों को भिखारी बना कर खैरात बाटने पर लगी है ..कांग्रेसियों ..तुम लोगों ने देश को बर्बाद करने में ,लोगों का खून चूसने में कोई कसर नहीं छोड़ रखी ..अब तो बक्श  दो इस देश को .....ये देश तुमसे अपने जिंदगी की भीख माँग रहा है ...अब तो छोड़ दो ,बहुत लूट लिया इस देश को ..अब पहले उस लुटे हुए को खा तो लो .... प्लीज अब इस देश पर दया करो ..दया करो ...थोड़ा सा दया करो ..

Thursday, July 4, 2013

मुश्किल में भारतीय प्रोफेशनल्स



LOKMAT
अमेरिका में भारतीय प्रोफेशनल्स को भगाने की साजिश
पिछले दिनों अमेरिका में पेशेवर इंजिनियरों की सबसे बड़ी संस्था (आईईईई-यूएसए) ने सीनेट की न्यायिक समिति से आग्रह किया कि वह कॉम्प्रिहेंसिव इमिग्रेशन बिल एच-1 बी अस्थाई वीजा से सम्बंधित नियमों को और कठोर करे। संस्था ने सांसदों से आग्रह किया है कि वे इंडियन प्रफेशनल्स में लोकप्रिय एच-1बी वीजा का सालाना कोटा बढ़ाए जाने की पहल को खारिज कर दें। संस्था ने एच-1बी वीजा के विस्तार का विरोध करते हुए कहा कि इससे अमेरिकी नौकरियां विदेशियों के हाथ में चली जाती हैं, जिससे देश की अर्थव्यवस्था को नुकसान होता है। भारत के देश के औद्योगिक संगठन नैसकॉम ने अमेरिका के प्रस्तावित इमीग्रेशन बिल पर चिंता जताई है। नैस्कॉम ने इस बिल को भेदभाव वाला बताया है। नैसकॉम के अनुसार इस बिल में वीजा पर निर्भर कंपनियों और वीजा पर निर्भर नहीं रहने वाली कंपनियों के बीच भेदभाव किया गया है। अमेरिका ने अपने यहां के आईटी प्रोफेशनल को ज्यादा मौके देने के इरादे से यह बिल तैयार किया है। इस वजह से वित्त वर्ष 2014 में भारत के लिए एच-1बी वीजा रिजेक्शन रेट 60 फीसदी हो सकता है। जबकि वित्त वर्ष 2013 में रिजेक्शन रेट 45 फीसदी था।
आर्थिक मंदी से पहले 1990 से लेकर 2007 तक अमेरिका ने दुनियाभर से लोगों को बुला कर अपनी कंपनियों को फायदा पहुंचाया। इन सत्रह सालों में अमेरिकी वर्कफोर्स में विदेशी कर्मचारियों का प्रतिशत 9.3 से बढकर 15.7 तक पहुंच गया। कई कंपनियों की सफलता में भारतीय प्रोफेशनल्स का विशेष योगदान रहा है । सस्ते दामों पर भारत से प्रतिभा का पलायन कराकर अमेरिकी कंपनियों ने जमकर मुनाफा कमाया।  आज अमेरिका में बेरोजगारी चरम पर है। मंदी अमेरिकी कंपनियों को अपनी गिरफ्त में ले चुकी है। सरकार पर बेरोजगारी की मार झेल रहे अमेरिकी नागरिकों का दबाव है। अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव में भी  बेरोजगारी एक अहम मुद्दा रहा। बराक ओबामा ने चुनावी भाषणों में बुश की नीतियों को बढ़ती बेरोजगारी का जिम्मेदार बताया था।  सत्ता पाने के बाद  बराक ओबामा के बनाए कानून और अमेरिका में रिसेशन से बचने के प्रयासों से साफ है कि वहां से भारतीयों को भगाने की सोची समझी साजिश चल रही है।इसी वजह से भारतीयों के लिए वीजा फीस में भारी बढोत्तरी के साथ इससे सम्बंधित कानून को और भी कठोर बनाया जा रहा है ।
DNA
असल में अमेरिका भारतीय प्रोफेशनल्स की सफलता और अमेरिकी नागरिकों की बेरोजगारी से घबराया हुआ है । अमेरिका के आईटी सेक्टर में बेरोजगारी की दर 6 फीसदी है। सामान्य बेरोजगारी की दर 8 प्रतिशत है। इस वक्त अमेरिका मे लगभग 20 लाख भारतीय प्रोफेशनल्स रह रहे है, जिनमें ज्यादातर बैचलर या हायर डिग्री होल्डर है। पीएचडी डिग्री धारकों में भी भारतीयों की खासी तादाद है।  कठिन वीजा नियमों के कारण भारत के इंजीनियरों के लिए अमेरिका जाना कम हो जाएगा। भारतीय इंजीनियरों का प्रवेश कम होने के कारण अमेरिकी इंजीनियरों के लिए रोजगार का विस्तार होगा। भारतीय इंजीनियरों से उन्हे प्रतिस्पर्धा नहीं करनी पड़ेगी। अमरीका में कार्य कर रही इंफोसिस एवं विप्रो जैसी भारतीय कंपनियों को अमेरिकी इंजीनियरों को काम देना होगा। इन परिस्थितियों को देखकर अब भारतीय आईटी कंपनियां एच-1बी वीजा के विकल्प तलाश कर रही हैं। ज्यादातर कंपनियों ने अमेरिका में ही भर्तियां करना शुरू कर दिया है। इंफोसिस, विप्रो, टीसीएस को अमेरिका में ही कैंपस हाइरिंग का सहारा लेना पड़ सकता है। असल में इस माँग के पीछे अमेरिकी मतदाता का दबाव है। उनके अनुसार भारतीय इंजीनियरों द्वारा उनके रोजगार छीने जा रहे हैं। बढ़ती बेरोजगारी की वजह से अमेरिका ने अपनी पारंपरिक खुले व्यापार की नीति को त्यागकर संरक्षण की नीति को अपनाया है। 
JANSANDESHTIMES
कठिन वीजा नियमों के कारण यह स्तिथि प्रथम दृष्ट्या भारत के लिए हानिकारक एवं अमेरिका के लिए लाभप्रद दिखती है। लेकिन इसके दूरगामी फायदे भारत को ही होंगे .भारतीय कर्मियों के लिए अमेरिका में रोजगार के अवसर कम हो जाएंगे इससे तत्काल अमेरिकी इंजीनियरों को मिलने वाले रोजगार में कुछ वृद्धि होने की संभावना है परंतु दीर्घकाल में विपरीत प्रभाव पड़ेगा। एक रिपोर्ट के अनुसार अमेरिका द्वारा पेटेंट कराई गई तकनीकों में 40 प्रतिशत अप्रवासियों द्वारा इजाद की गई है। अप्रवासियों द्वारा स्थापित कंपनियों में 450000 रोजगार अमेरिका में उत्पन्न किए गए हैं। माइक्रोसाफ्ट प्रमुख बिल गेट्स कहते रहे हैं कि एच1बी वीजा की संख्या को बढ़ाया जाए जिससे उनकी कंपनी को निपुण एवं प्रतिभावान भारतीय इंजीनियरों की सेवा प्राप्त हो सके। भारतीय इंजीनियरों की उपलब्धता कम होने से अमेरिकी कंपनियों को महंगे एवं कमजोर अमेरिकी इंजीनियरों से काम लेना होगा जिससे उनकी वैश्विक प्रतिस्पर्धा शक्ति में कमी आएगी। अमेरिका में वर्ष 2011 के दौरान शुरू की गई कंपनियों में से लगभग 30 फीसदी के संस्थापक प्रवासी नागरिक हैं। आप्रवासी आधारित व्यापार से अमेरिकी अर्थव्यवस्था को हर साल सैकड़ो अरब डॉलर का ज्यादा का राजस्व प्राप्त होता है ।इन कड़े नियमों के बाद इस राजस्व में भी कमी आयेगी ।
पूरा विश्व भारतीय प्रोफेशनल्स की क्षमता और योग्यता का कायल है । आईआईटी के छात्रों का अंतरराष्ट्रीय बाजार में महत्व का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि पिछले दिनो अमेरिकी राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार रहें जनरल वेसले क्लार्क ने कहा था कि अगर किसी व्यक्ति के पास आईआईटी की डिग्री हो तो उसे तुरंत अमेरिकी नागरिकता मिल जाएगी। माइक्रोसॉफ्ट के मुखिया बिल गेट्स ने कहा था कि आईआईटियन बतौर सॉफ्टवेयर इंजीनियर उनकी पहली पसंद है । अमेरिका की राष्ट्रीय खुफिया परिषद (एनआईसी) द्वारा हाल में प्रकाशित ग्लोबल ट्रेंड 2030 की महत्वपूर्ण रिपोर्ट के अनुसार भारत 2030 तक विश्व की सबसे बड़ी आर्थिक ताकत बनकर उभर सकता है और उसे आर्थिक ताकत बनाने में भारतीय प्रतिभाओं व प्रोफेशनल्स की भूमिका महत्वपूर्ण होगी। वैश्विक महत्व की इस अमेरिकन रिपोर्ट के साथ ही  कई सर्वेक्षण भारत में समृद्धि का नया परिदृश्य रेखांकित करते दिख रहे हैं।
SHRITIMES
कठिन वीजा नियमों के बावजूद अमेरिकी कंपनियों द्वारा भारतीय कंपनियों को साफ्टवेयर के ठेके मिलते रहेंगें क्योंकि भारतीय इंजीनियर कम वेतन पर अच्छा काम करते हैं। मूल अंतर यह होगा कि अभी तक भारतीय कंपनिया आधे काम को अमेरिका में और आधे काम को भारत में कराती थीं। अब वे पूरे काम को भारत में ही कराने का प्रयास करेंगी। इससे अमेरिका को दोहरा नुकसान होगा।
भारतीय इंजीनियर अपने देश में रहकर अपनी समझ और प्रतिभा का उपयोग कर सकेंगे जिससे नई तकनीकों का आविष्कार भारत में ही होने लगेगा।  जिसका सीधा लाभ भारत को मिलेगा । भारतीय कंपनियों को अमेरिका के बढ़ते संरक्षणवाद का लाभ आउटसोर्सिंग के माध्यम से उठाने के लिए तैयार होना चाहिए। भारतीय कंपनियों को को समझना चाहिए कि इस स्तिथि में अंतिम तथ्य बुद्धि की उत्पादन लागत से तय होगा। यदि साफ्टवेयर बनाने की बौद्धिक क्षमता का उत्पादन भारत में दस लाख रुपये में हो जाता है और अमेरिका में उसी क्षमता के उत्पादन की लागत 50 लाख आती है तो भारत का फायदा होना ही है। प्रखर भारतीय बुद्धि को बाहर रखने से अमेरिका का नुकसान होना निश्चित है ।